क्यों न रद कर दी जाए रेयान इंटरनेशनल स्कूल की मान्यताः CBSE

    0
    58

    गुरुग्राम। CBSE ने गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए कहा है कि स्कूल बुनियादी सुरक्षा उपायों का पालन करने में फेल रहा है इसलिए क्यों न उसकी मान्यता रद कर दी जाए। नोटिस में सीबीएसई की तरफ से यह भी कहा गया है कि स्कूल सावधानी बरतता तो बच्चे की मौत को टाली जा सकती थी।
    CBSE की जांच रिपोर्ट में रेयान स्कूल की तरफ से बड़ी लापरवाही का खुलासा हुआ है। CBSE के मुताबिक स्कूल में सुरक्षा नियमों का उल्लंघन किया गया। स्कूल ने सुरक्षा के सारे मापदंडों को ताक पर रखा हुआ था।
    रेयान स्कूल में सात साल के बच्चे की हत्या के बाद CBSE ने इस मामले की जांच के लिए पिछले हफ्ते 2 मेंबर की एक कमेटी का गठन किया था। कमेटी ने कहा है कि घटना पर गौर करने के बाद रेयान इंटरनेशनल को घोर लापरवाही का दोषी पाया गया है। स्कूल ज्यादा सावधान रहता तो बच्चे को मौत से बचा जा सकता था। CBSE ने स्कूल मैनेजमेंट से नोटिस पर 15 दिनों में जवाब मांगा है।
    नोटिस में कहा गया है कि इस दुर्भाग्यपूर्ण मौत को टाला जा सकता था, लेकिन स्कूल प्रबंधन ने अपनी ड्यूटी, से पूरी तरह पल्ला झाड़ रखा था। CBSE की तरफ से तय बुनियादी सुरक्षा उपायों का पालन और उनका निरीक्षण करने में स्कूल फेल रहा। रेयान इंटरनेशनल स्कूल 8 सितंबर को सात साल के बच्चे की नृशंस हत्या कर दी गई थी। बच्चे का शव स्कूल के बाथरूम में मिला था।
    गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में 8 सितंबर को सात साल के बच्चे का मर्डर कर दिया गया था। बच्चे का शव स्कूल के बाथरूम में मिला था। इस मामले में पुलिस ने स्कूल के बस कंडक्टर अशोक कुमार को अरेस्ट किया था। आरोपी अशोक 8 महीने पहले ही स्कूल में कंडक्टर की नौकरी पर लगा था।
    अशोक ने कहा था कि ‘मैं बच्चों के टॉयलेट में था। वहां गलत काम कर रहा था। तभी वह बच्चा आ गया। उसने मुझे देख लिया। मैंने उसे पहले देखा, धक्का दिया। फिर खींच लिया। वह शोर मचाने लगा तो मैं डर गया। फिर मैंने उसे दो बार चाकू से मारा।’
    गुरुग्राम के डिप्टी कमिश्नर विनय प्रताप सिंह का कहना है कि प्रबंधन की पूरी कोशिश है कि सोमवार से स्कूल दोबारा खुल जाएगा। वहीं, अगले तीन महीने के लिए चार्ज भी संभाल लिया जाएगा। बता दें कि शुक्रवार को सरकार ने रेयान स्कूल का प्रबंधन तीन महीने के लिए अपने हाथ में ले लिया है। सिंह ने यह भी बताया कि सेफ्टी गाइडलाइंस के पालन को लेकर स्कूलों की मीटिंग बुलाई गई है। यह सुनिश्चित करने की कोशिश की जाएगी कि ऐसी घटनाएं अब दोबारा न हों।