हम तो कपिल देव को पागल मानते थे: श्रीकांत

0
42

नई दिल्ली। भारत की पहली क्रिकेट वर्ल्ड कप विजेता टीम पर फिल्म डायरेक्टर कबीर खान फिल्म बनाने रहे हैं। इस बीच टीम के खिलाड़ी 1983 वर्ल्ड कप की यादों से जुड़े कई रोचक किस्से बयां कर रहे हैं। टीम इंडिया के तत्कालीन ओपनिंग बल्लेबाज कृष्णमचारी श्रीकांत ने अपनी एक ऐसी ही कुछ यादों को बयां किया है। कबीर खान इस फिल्म के लिए खिलाड़ियों से उस वर्ल्ड कप टूर की यादों को इक्ट्ठा कर रहे हैं। हाल ही में कबीर खान ने इसके लिए एक कार्यक्रम आयोजित किया था। इस कार्यक्रम में वर्ल्ड कप विजेता टीम के खिलाड़ी श्रीकांत ने बताया कि वह और उनकी टीम वर्ल्ड कप को लेकर कपिल देव की सीरियसनेस को पागलपन समझते थे और आपस में खूब हंसते थे।
इस कार्यक्रम में स्टेज पर अपनी बातें शेयर करते हुए श्रीकांत ने कहा, ‘हम 1983 वर्ल्ड कप की शुरुआत से पहले ही 2 प्रैक्टिस मैच हार चुके थे और इसके बाद कपिल देव वेस्ट इंडीज की टीम को हराने के लिए हमारे साथ रणनीति बनाते थे। टीम मीटिंग से कपिल देव के जाने के बाद हम सभी खिलाड़ी उनकी बातों पर हंसते थे और कहते थे कि हमारा कैप्टन पागल है। हालांकि बाद में कपिल देव ने टीम में यह विश्वास जगा दिया की हमारी टीम भी वर्ल्ड की सर्वश्रेष्ठ टीम को हरा सकती है और ऐसा ही हमने किया भी। यह कपिल देव की मेहनत और उनके आत्म-विश्वास का ही नतीजा था कि पूरी टीम ने शानदार परफॉर्मेंस दिखाया और भारत को उसका पहला वर्ल्ड कप जिताया।’

इस दौरान कृष्णमचारी श्रीकांत ने यह भी बताया कि उनकी शादी मार्च में हुई थी और वह अपना हनीमून अमेरिका में मनाने के लिए प्लान कर रहे थे। इस बीच उन्हें वर्ल्ड कप टीम में खेलने के लिए चुना गया। श्रीकांत ने बताया, ‘हनीमून का प्लान करते हुए इस बीच मैंने बाय द वे वर्ल्ड कप खेल लिया। हम टूर्नमेंट में फेवरेट नहीं थे और हम भी खुद को फेवरेट नहीं मान रहे थे। यही मान के बैठे थे कि टूर्नमेंट के लीग स्टेज में हारकर हम बाहर हो जाएंगे और वहीं से कुछ साथी खिलाड़ियों के साथ छुट्टियां बिताने अमेरिका चले जाएंगे।’
चीका ने बताया, ‘भारत ने इससे पहले भी दो वर्ल्ड कप में हिस्सा लिया था और उसका प्रदर्शन खराब ही रहा था। 1983 से पहले हमने दो वर्ल्ड कप में सिर्फ पूर्वी अफ्रीका की टीम को हराया था। इसीके चलते मैं मान रहा था कि हम लीग स्टेज में बाहर हो जाएंगे और फिर हनीमून पर निकल जाएंगे। मैंने अपनी पत्नी विद्या को बताया कि पहले हम छोटा सा हनीमून श्री लंका में मना लेते हैं फिर दूसरा हनीमून लंदन में और फिर तीसरा हनीमून यूएस में मनाएंगे, जहां हम मनाना चाहते हैं। यही हमारी योजना थी।’ उन्होंने बताया कि वेस्ट इंडीज की टीम इतनी खतरनाक थी कि पूछो मत। उस टीम के गेंदबाजों के नाम हम आज भी याद नहीं करना चाहते।