विमल कटारिया बने अभातेयुप के राष्ट्रीय अध्यक्ष

0
203

रुपेश दुबे/कोलकाता: रविवार को कोलकाता में अखिल भारतीय तेरापंथ युवक परिषद की 51 वे राष्ट्रीय अधिवेशन के दूसरे दिन अभातेयुप के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष के तौर पर विमल कटारिया के नाम की घोषणा की गई। इस अवसर पर देश भर से आये सैकड़ो कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी उपस्थित थे। इस चुनाव मनाव की प्रक्रिया में चुनाव अधिकारी के रूप में सुखराज सेठिया और पदम पटावरी थे। बीसी भलावत द्वारा अपनी कार्यकारणी भंग करने के बाद चुनाव मनाव की प्रक्रिया शुरू हुई। जिसमें सर्व सम्मति के साथ विमल कटारिया को राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना गया। राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोनीत होने के ठीक बाद विमल कटारिया ने गुरुदेव के सम्मुख उपस्थित होकर आशीर्वाद प्राप्त किया। गुरुदेव ने सोमवार सुबह मंगल पाठ सुनाने का भाव प्रगट किया। चुने जाने पर बीसी भलावत ने कहा कि ये मेरे लिए गर्व की बात है कि मरे महामंत्री मेरी कमान संभालने जा रहे हैं। उससे भी ज्यादा खुशी तब होती जब आप से भी ज्यादा प्रतिभावान व्यक्ति आप के पदभार को संभालता है। साथ ही मैं वादा करता हूँ कि मेरी सम्पूर्ण टीम दो सालों के विमल कटारिया के कार्यकाल के दौरान उनके साथ खड़े रहेंगे।
अभातेयुप नव निर्वाचित राष्ट्रीय अध्यक्ष विमल कटारिया ने कहा कि गुरुदेव आप की ही कॄपा से मुझे इस छोटे से कार्यकर्ता को बहुत बड़ी जवाबदारी मिली है। मैं बस यही कहना चाहता हूं कि आप के हर इंगित पर खरा उतरने की पूरी कोशिश करूंगा। मुनि श्री दिनेश कुमार जी ने मुझे इस लायक बनाया की मैं इस काबिल बन सकूं। साध्वी प्रमुखा के प्रति भी कृतज्ञता ज्ञापित करना चाहूंगा क्योंकि चारित्रात्माओ की वजह से ही मैं इस काबिल बन पाया हूँ।  बी सी भलावत जी के प्रति आभार प्रगट करना चाहूंगा क्योंकि आप ने ही कुंभार की भांति मुझे आकर दिया है। साथ ही कहा कि आज विमल कटारिया अध्यक्ष नही बना है  340 तेयुप परिषदें अध्यक्ष बने है।
गौरतलब है कि अधिवेशन के दूसरे दिन के प्रथम सत्र में आचार्य श्री महाश्रमण जी का मंगल उद्बोधन प्राप्त हुआ। वहीं महामंत्री विमल कटारिया ने प्रतिवेदन गुरुदेव के चरणों में रखा। राष्ट्रीय अध्यक्ष बी सी भलावत ने अब तक के कार्यों की रूप रेखा रखते हुए अपने विचार रखते हुए भाउक हो गए। अधिवेशन के दूसरे सत्र में आचार्य महाश्रमण जी के आज्ञानुवर्ती मुनि श्री दिनेश कुमार जी एवं मुनि वृंदों के सानिध्य में कार्यक्रम का आयोजन हुआ। मुनि श्री दिनेश कुमार ने कहा कि परिषदों की वजह से ही अभातेयुप सफल है। मुनि योगेश कुमार ने कहा कि आचार्य तुलसी की नजरों में युवाओं का अलग स्थान था। उसकी वजह आज दिखाई देता हैं। मुनि श्री नय कुमार जी ने कहा कि युवा ऐसी शक्ति जिसके चलने पर मार्ग स्वयं तैयार हो जाता हैं। बीसी भलावत युवाओं के आदर्श हो सकते है क्योंकि उनके कार्यशैली को शब्दों में कहना मुश्किल हैं। महामंत्री विमल कटारिया ने कहा कि आज जो हूँ चारित्रात्माओ के मार्गदर्शन की वजह से हूँ। साथ ही दो वर्षों में सबसे ज्यादा स्नेह राष्ट्रीय अध्याक्ष बीसी भलावत ने दिया उसे मैं शब्दों में बयां नही किया जा सकता हैं। उनका जीवन इतना सरल जबकि एक प्रतिष्ठित व्यक्तित्व और जीवंत संस्था अभातेयुप के राष्ट्रीय अध्यक्ष होने के बावजूद भी बने रहना आश्चर्य हैं। रही बात काम की तो युवाओं की शक्ति की वजह से है क्योंकि नेता तो बस फीता काटता हैं। कोषाध्यक्ष नवीन वागरेचा, संगठन मंत्री योगेश चौधरी, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राजेश जामर आदि ने विचार रखें। साथ ही सभी संस्थाओं के पद्धिकारियों का सम्मान किया गया। बहरहाल अभातेयुप तेरापंथ धर्म संघ की 50 हजार युवाओं की संस्था है जो धर्म संघ की प्रभावनाओं से लेकर मानव सेवा के कई उपक्रम को देश भर चलाती है। जिसमें ब्लड डोनेशन कैम्प और आचार्य तुलसी डायग्नोस्टिक सेंटर जैसे मानव सेवा के कार्य शामिल हैं। जिसका सीधा लाभ आम जन मानस को हो रहा हैं। इन सभी योजनाओं को बी सी भलावत ने एक नई ऊंचाई दी और कई अहम योजनाएं धर्म संघ की प्रभवना के लिए सम्मुख रखा। वहीं सोमवार की सुबह विमल कटारिया अपनी कार्यकारणी की घोषणा गुरुदेव के मंगलपाठ सुनने के बाद शपथ विधी के दौरान कर सकते हैं।