सांसदो को पढ़ाएंगी स्पीकर, लगेगी क्लास

0
92

नई दिल्ली:सदन में चर्चा के स्तर को बढ़ाने के लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन अब सांसदों की पढ़ाई भी कराएगी। इसके लिए उन्होंने संसद भवन परिसर में अध्यक्षीय शोध कदम (अशोक) के नाम से एक नया सेंटर खोला है,जहां सांसदों को उनकी रुचि के मुताबिक अलग-अलग विषयों की शोध परख जानकारी दी जाएगी। यह जानकारी संबंधित विषयों के विशेषज्ञ देंगे। इसके लिए विशेषज्ञों का एक पैनेल भी तैयार किया कराया गया है।
लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन की सोच के तहत तैयार किए गए इस शोध कदम का शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने औपचारिक शुभारंभ किया। साथ ही लोकसभा अध्यक्ष के इस प्रयास को सराहा भी। इस दौरान शोध कदम की एक वेबसाइट भी लांच की गई। शोध कदम में लोकसभा और राज्यसभा दोनों सदनों के सांसदों को पढ़ने की छूट रहेगी। इसके अलावा अध्यक्ष की तरफ से भी संसद सत्र खत्म होने के बाद सांसदों की एक ऐसी क्लास भी लगाई जाएगी, जिसमें बारी-बारी से सभी सांसदों को बुलाया जाएगा। अध्यक्षीय शोध कदम से जुड़े अधिकारियों की मानें तो इसका मकसद सांसदों को अलग-अलग विषयों के विशेषज्ञ के तौर पर तैयार करने की है। इस दौरान जिन विषयों पर सबसे ज्यादा फोकस किया जा रहा है, उनमें कृषि, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, विदेश नीति, अर्थव्यवस्था जैसे गंभीर विषयों की जानकारी दी जानी है।
अब तक लग चुकी है ऐसी 14 क्लास
अध्यक्षीय शोध कदम के औपचारिक शुरुआत से पहले ही इसने काम शुरु कर दिया है। इसके तहत देश में अब तक 14 क्लास लगाई जाएगी। जिसमें करीब दो सौ सांसदों को अलग-अलग विषयों की जानकारी दी जा चुकी है। माना जा रहा है कि इससे सांसदों द्वारा सदन के अंदर की जाने वाली चर्चाओं में गुणात्मक सुधार देखने को मिलेगा।