स्‍नैपडील के गले नहीं उतरी थी फ्लिपकार्ट की डील

0
32

मुंबई:एजेंसी।स्‍नैपडील और फ्लिपकार्ट के बीच मर्जर डील रद्द होने के पीछे कई वजहें थीं। इसकी एक वजह डील का काफी जटिल स्‍ट्रक्‍चर था, जो स्‍नैपडील के इन्‍वेस्‍टर्स पर करोड़ों रुपए की टैक्‍स लाएब्लिटी डाल देता।
 कई वजहें थीं डील रद्द होने की
स्‍नैपडील ने फ्लिपकार्ट से डील कैंसल करते हुए कहा था कि वह स्‍वतंत्र रूप से अपना ऑपरेशन चलाएगी। लेकिन सोर्सेज की मानें तो डील रद्द होने की कुछ और ही वजहें थीं। सोर्सेज के मुताबिक वैल्‍युएशन को लेकर बात न बनने की वजह से ही यह डील कैंसल हुई।
 टैक्‍सेशन स्‍ट्रक्‍चर भी था वजह
इस डील से जुड़े दो लोगों ने बताया कि स्‍नैपडील और फ्लिपकार्ट के बीच इस डील के रद्द होने का कारण इसका टैक्‍सेशन स्‍ट्रक्‍चर भी रहा। देश के कई कानूनों की वजह से इस डील में कई प्रतिबंध खड़े हो सकते थे। जिसका परिणाम स्‍नैपडील के इन्‍वेस्‍टर्स पर टैक्‍स बर्डन के तौर पर सामने आता।
 शेयरहोल्‍डर्स नहीं थे राजी
उन्‍होंने बताया कि जब डील की वैल्‍यू तय कर दी गई थी। तब शेयरहोल्‍डर्स एक बड़ी रकम टैक्‍स के तौर पर भरने को राजी नहीं थे। उनका तर्क था कि टैक्‍स लाएब्लिटी के बारे में वैल्‍युएशन के शुरुआती दौर में ही बता दिया जाना चाहिए था। इसके अलावा अलग-अलग इन्‍वेस्‍टर को अलग-अलग पेआउट एक मुद्दा था, जिसकी वजह से यह डील कैंसल हुई।

Source: Shilpkar