कपिल मिश्रा के सवाल- न कोई काम, न कोई विभाग ये हैं केजरीवाल

0
36

नई दिल्ली: कपिल मिश्रा के बारे में ज्यादा कुछ बताने की जरूरत नहीं है। दिल्ली के सीएम केजरीवाल अक्सर कहा करते थे कि जनकल्याण से संबंधित योजनाओं पर वो लोगों के मत को जानने की कोशिश करेंगे। ये बात अलग है कि शायद ही लोगों के नजरिए को जानने की कोशिश उन्होंने की हो। लेकिन AAP से निष्कासित कपिल मिश्रा ने उन्हीं के अंदाज में उनके लिए जनमत संग्रह करा डाला।
20 मिनट में 600 प्रतिक्रियाओं के आने के बाद कपिल ने सीधे केजरीवाल पर सवाल दाग डाले। उन्होंने कहा कि अब तो जनता भी कह रही है कि सीएम साहब विधानसभा तो अटेंड कर लो।
लेकिन जैसे ही ट्वीट की संख्या 600 से बढ़कर 1600 हुई कपिल ने कहा कि अब आदरणीय सीएम साहब को तो आना ही चाहिए।
लेकिन जब ट्वीट्स का कुछ खास असर नहीं हुआ तो कपिल मिश्रा का अंदाज बदल गया। उन्होंने कहा, अरविंद केजरीवाल एक बार फिर विधानसभा की कार्यवाही से बचते दिखाई दे रहे हैं। इसका मतलब ये है कि वो मानसून सत्र से कन्नी काट चुके हैं।
लेकिन कपिल मिश्रा को इतने सारे सवालों का खामियाजा भी भुगतना पड़ा। वो ट्वीट का कुछ इस तरह से जवाब देते हैं।
कपिल मिश्रा को जब दिल्ली विधानसभा के मार्शलों ने बाहर किया तो उनका जवाब चुटीले अंदाज में था।
कपिल मिश्रा कहते हैं कि एक तरफ दिल्ली सरकार और आम आदमी पार्टी अभिव्यक्ति की आजादी की बात करती है। लेकिन जब उनसे जुड़ी खबरों को पत्रकारों ने जगह दी तो सरकार ने उन पत्रकारों को दिल्ली सरकार के आधिकारिक ग्रुप से बाहर कर दिया।
पत्रकारों को Delhi Govt से सवाल पूछने पर official groups से बाहर किया – it’s a matter of pride आपकी पत्रकारिता जिंदा है इसलिए वो परेशान है