पहले वनडे में भारत की शानदार जीत

0
101

चेन्नई:भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच पांच मैचों की वनडे सीरीज के पहले मुकाबले में मेजबान टीम ने डकवर्थ लुइस नियम के तहत 26 रन से जीत दर्ज की। चेन्नै में खेले गए मैच में महेंद्र सिंह धोनी (79) और हार्दिक पंड्या (83) की शानदार पारियों की मदद से भारत ने सात विकेट पर 281 रन बनाए। भारत की पारी के बाद बारिश ने मैच में खलल डाला और ऑस्ट्रेलिया को 21 ओवर में 164 रन का संशोधित लक्ष्य मिला। मेहमान टीम नौ विकेट पर 137 रन ही बना सकी।
लक्ष्य का पीछा करने उतरी ऑस्ट्रेलियाई टीम के चार विकेट 35 रन तक गिर गए। ओपनर हिल्टन कार्टराइट एक, कप्तान स्टीवन स्मिथ एक, ट्रेविस हेड पांच और डेविड वॉर्नर 25 रन बनाकर आउट हो गए। ग्लेन मैक्सवेल ने कुछ उम्मीदें बांधीं लेकिन उन्हें लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल ने अपना शिकार बनाया। मैक्सवेल ने 18 गेंदों पर तीन चौकों और चार छक्कों की मदद से 39 रन बनाए। जेम्स फॉकनर 32 रन बनाकर नाबाद रहे। भारत के लिए चहल ने 30 रन देकर तीन विकेट लिए जबकि कुलदीप यादव और हार्दिक पंड्या को दो-दो विकेट मिले।
इससे पहले धोनी (79) और हार्दिक पंड्या (83) ने दमदार पारियां खेलीं और दोनों के बीच छठे विकेट पर 118 रन की शतकीय साझेदारी हुई। पंड्या ने तूफानी अंदाज में खेलते हुए 66 गेंदों पर पांच चौके और पांच छक्के लगाए और वनडे का अपना दूसरा अर्द्धशतक लगाया। धोनी ने 88 गेंदों की अपनी पारी में चार चौके और दो छक्के जड़े। धोनी ने अपने वनडे करियर का 66वां अर्द्धशतक लगाया और इसी के साथ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अर्द्धशतकों का शतक भी पूरा कर लिया। धोनी के नाम टेस्ट में 33 और टी-20 में एक अर्द्धशतक हैं।
भारतीय कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। मेजबान टीम एक समय 11 रन पर तीन विकेट गंवा चुकी थी। शिखर धवन के स्थान पर टीम में बतौर सलामी बल्लेबाज शामिल किए रहाणे इस मौके का फायदा नहीं उठा पाए। पारी के चौथे ओवर में नेथन कॉल्टर-नाइल की बाहर जाती एक गेंद पर रहाणे ने स्वभाव के विपरीत बड़ा शॉट खेलने की कोशिश की। गेंद ने बल्ले का बाहरी किनारा लिया और सीधा विकेटकीपर मैथ्यू वेड के दस्तानों में गई। रहाणे ने 15 गेदों पर पांच रन ही बनाए।
अपने अगले ओवर में कॉल्टर-नाइल ने कप्तान कोहली को आउट कर भारतीय खेमे को बड़ा झटका दिया। कोहली ने पॉइंट के ऊपर से शॉट खेलने की कोशिश की लेकिन ग्लेन मैक्सवेल ने शानदार छलांग लगाकर अपनी टीम को बड़ी कामयाबी दिलाई। इसी ओवर में मनीष पांडे को विकेटकीपर वेड के हाथों कैच कराकर कॉल्टर-नाइल ने तीसरी सफलता हासिल की। इसके बाद रोहित शर्मा ने केदार जाधव के साथ मिलकर भारतीय पारी को संभालने का काम किया।
रोहित और जाधव ने चौथे विकेट पर 53 रन जोड़े। जब भारत का स्कोर 64 रन था तब रोहित 28 रन बनाकर स्टॉयनिस की गेंद पर कॉल्टर-नाइल को कैच थमा आउट हो गए। स्टॉयनिस की शॉर्ट गेंद पर पुल करने के प्रयास में जाधव फाइन लेग पर कैच आउट हो गए।
इसके बाद महेंद्र सिंह धोनी बल्लेबाजी करने उतरे। उन्होंने जाधव के साथ मिलकर पटरी से उतर चुकी टीम इंडिया की पारी को संभालने का प्रयास किया। हालांकि यह कोशिश भी लंबी नहीं चली और जाधव 40 रन बनाकर चलते बने। धोनी और पंड्या ने फिर शतकीय साझेदारी कर स्कोर 200 के पार पहुंचा दिया। पंड्या को पारी के 41वें ओवर में ऑस्ट्रेलिया के युवा स्पिनर एडम जम्पा ने अपना शिकार बनाया।
धोनी ने फिर भुवनेश्वर कुमार के साथ पारी को आगे बढ़ाया और दोनों ने मिलकर सातवें विकेट पर 72 रन की साझेदारी की। धोनी पारी के अंतिम ओवर की चौथी गेंद पर जेम्स फॉकनर का शिकार बने। भुवनेश्वर ने 30 गेंदों की अपनी नाबाद पारी में पांच चौके लगाए। ऑस्ट्रेलिया के कॉल्टर-नाइल ने तीन और मध्यम तेज गेंदबाज स्टॉयनिस ने दो विकेट झटके। लेग स्पिनर जम्पा और फॉकनर को एक-एक विकेट मिला।