थाने में हेड कॉन्स्टेबल का मर्डर

0
43

नई दिल्ली:राजधानी में रोहिणी इलाके में एक थाने के अंदर हेड कॉन्स्टेबल की गोली मारकर हत्या कर दी गई। पुलिस शुरू में इसे खुदकुशी का मामला बताती रही लेकिन बाद में हत्या की धाराओं में केस दर्ज करके जांच क्राइम ब्रांच को सौंप दी गई है।
घटना बुधवार देर रात विजय विहार थाने में हुई। हेड कॉन्स्टेबल राजेश कुमार सैनी (45) की नाइट ड्यूटी थी। वह रोहिणी सेक्टर-17 के अपने घर से शाम 6 बजे थाने पहुंचे। कॉल आने पर एक कॉन्स्टेबल के साथ बाहर चले गए। रात करीब 11 बजे राजेश के परिवार को थाने की ओर से बताया गया कि उन्होंने खुदकुशी कर ली है। उनकी पत्नी ने बताया, ‘मैं जब बाबा भीमराव अस्पताल पहुंची तो देखा कि राजेश का शव सफेद कपड़े में लिपटा था। मैंने कपड़ा खोलकर देखा तो उनके नाखून नीले पड़े हुए थे। हाथों में चोट और खरोंच के निशान भी थे। तब तक पुलिस इसे आत्महत्या ही बता रही थी।’
पत्नी ने बताया कि इसी बीच मुझे पता चला कि थाने के गेट पर गोली चलने की आवाज सुनी गई थी। उसके बाद परिजनों ने हेड कॉन्स्टेबल की हत्या का शक जताया। बाद में डीसीपी ने भी पुष्टि की कि राजेश के बाएं कंधे के पास नीचे की तरफ एक गोली लगी है। राजेश सोनीपत के खरखोदा के रहने वाले थे और विजय विहार थाने में दो साल से तैनात थे।
पुलिस ने अपने ही स्टाफ के परिजनों को किया गुमराह?
-राजेश के बेटे नितिन का कहना है कि अस्पताल में एक लेडी इंस्पेक्टर ने थाने में स्टाफ के साथ पापा का झगड़ा होने की बात कही थी। जब यह बात डीसीपी को बताई गई तो वह लेडी अफसर मुकर गई।
-थाने के अंदर रात करीब 10:30 बजे गोली चलने की आवाज आसपास के दुकानदारों और लोगों ने भी सुनी। परिजनों ने थाने में पूछा तो किसी ने भी गोली चलने या आवाज सुनने की बात नहीं कही।
-पुलिस ने परिजनों को बताया था कि राजेश ने सर्विस रिव\ल्वर से गोली मारी थी। परिजनों को बाद में पता चला कि उस रात राजेश ने रिवॉल्वर इश्यू ही नहीं कराई थी। यह बात अफसरों को बताई गई तो पुलिस बयान बदलते हुए कॉन्स्टेबल की पिस्टल छीनकर गोली मारने की बात कहने लगी।