पहले जापान से सुरक्षित, स्वच्छ रेल यात्रा सीखो: शिवसेना

0
38

मुंबई:शिवसेना ने सुरक्षित एवं स्वच्छ यात्रा का सूत्र जापान से सीखने की सलाह देते हुए ऐसे समय में बुलेट ट्रेन परियोजना की व्यवहार्यता पर आज सवाल उठाया जब ट्रेनों के पटरी से उतरने की मैराथन जारी है। पार्टी ने अपने मुखपत्र में लिखा है कि जापान से बुलेट ट्रेन लेने से पहले अगर भारत ने जापान से सुरक्षित रेल यात्रा की तकनीक सीखी होती तो देश को ज्यादा खुशी होती।
पार्टी का कहना है कि जापान में वर्ष 1964 से 500 से 600 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से बुलेट ट्रेन चल रही है। गति महत्वपूर्ण नहीं है लेकिन देखने वाली बात यह है कि इतनी तीव्र गति के बावजूद कभी कोई रेल हादसा नहीं हुआ। पार्टी ने कहा, यह जानना महत्वपूर्ण है कि जापान में बुलेट ट्रेन की सफाई सात मिनट के भीतर हो जाती है और ट्रेन की यात्रा में एक भी मिनट की देरी की जांच होती है। जापान की तुलना में यहां ट्रेनें रेंगती हैं और ट्रेनों के पटरी से उतरने की मैराथन के बावजूद कोई जवाबदेही तय नहीं है। शिवसेना ने कहा, हम रेल यात्रा में 100 प्रतिशत सुरक्षा सुनिश्चित करने की कला जापान से क्यों नहीं सीख सकते? क्या हम सुरक्षित एवं स्वच्छ यात्रा का उनका सूत्र नहीं सीख सकते?
इसमें कहा गया है कि यदि सरकार ने जापान से रेल संचालन के गुर सीखे होते, तो यात्री स्वयं को अधिक सुरक्षित महसूस करते। शिवसेना ने बुलेट ट्रेन परियोजना की आलोचना करते हुए कहा है कि यह परियोजना आम आदमी का नहीं, बल्कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सपना है। शिवसेना ने यह भी जानना चाहा है कि क्या उच्च गति वाली अहमदाबाद-मुंबई ट्रेन परियोजना की वास्तव में देश को आवश्यकता है? खासकर तब जब देश में ट्रेनों के बीच पटरी से उतरने की प्रतिस्पर्धा चल रही है। आजकल, बमुश्किल ही कोई ऐसा दिन गुजरता है जब कोई ट्रे