उत्तर कोरिया पर ट्रंप के ट्वीट पर चीन ने US को दी चेतावनी, कहा-भड़काऊ बयानबाजी से बचें

0
57

पेइचिंग। अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप द्वारा उत्तर कोरिया को दी गई युद्ध की धमकी का प्योंगयांग के ‘दोस्त’ चीन ने विरोध किया है। चीन ने ट्रंप से ऐसे बयानों से बचने का आग्रह किया है जिससे कोरियाई प्रायद्वीप में तनाव को रोका जा सके। ट्रंप ने शुक्रवार को एक बार फिर प्योंगयांग को धमकाने वाले अंदाज में ट्वीट करते हुए कहा था कि अमेरिका ने उत्तर कोरिया मसले का सैन्य हल निकालने की तैयारी पूरी कर ली है। उम्मीद है कि उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग-उन कुछ अन्य रास्ता तलाशेंगे। इससे पहले ट्रंप ने एक अन्य ट्वीट में कहा था कि अगर उत्तर कोरिया, अमेरिका पर मिसाइल से हमला करने की धमकी नहीं रोकता है तो उसपर ऐसा हमला होगा जिसे दुनिया ने कभी देखा नहीं होगा।
ट्रंप और चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के बीच फोन पर हुई बातचीत में दोनों नेता इस बात पर सहमत थे कि उत्तर कोरिया को उकसावे वाले व्यवहार को रोकना चाहिए। वाइट हाउस ने एक बयान जारी कर कहा कि अमेरिका कोरियाई प्रायद्वीप में परमाणु हथियार खत्म करना चाहता है। बयान में कहा गया है कि ट्रंप और चिनफिंग के बीच करीबी रिश्ते हैं और उम्मीद है कि उत्तर कोरिया समस्या का समाधान शांतिपूर्ण तरीके से होगा।
चीनी विदेश मंत्रालय ने बताया कि चिनफिंग ने ट्रंप से कहा कि उत्तर कोरिया के परमाणु समस्या का समाधान शांतिपूर्ण तरीके से किया जाना चाहिए। चिनफिंग ने ट्रंप से कथित तौर पर कहा, ‘दोनों पक्षों को इस मसले पर बयानबाजी से परहेज करना चाहिए। ऐसे बयानों से बचा जाना चाहिए जिससे कोरियाई प्रायद्वीप में तनाव बढ़े।’
ट्रंप की यह तीखी प्रतिक्रिया उन खबरों के बाद आई थी, जिनमें कहा जा रहा है कि उत्तर कोरिया ने एक ऐसा वॉरहेड विकसित किया है जो कि एक अंतर्महाद्वीपीय बलिस्टिक मिसाइल (ICBM) में भी फिट हो सकता है। मालूम हो कि वॉरहेड मिसाइल का मुखास्त्र होता है। इसे परमाणु हमलों के लिए डिजाइन किया जाता है। न्यू जर्सी के बेडमिनस्टर स्थित अपने घर पर आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में ट्रंप ने उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग-उन को चेतावनी देते हुए कहा था, ‘बेहतर होगा कि अमेरिका को और धमकी न दो।’ ट्रंप ने कहा था, ‘अगर उत्तर कोरिया अपनी ये हरकतें जारी रखता है तो हम इस जोश के साथ जवाब देंगे कि दुनिया में इससे पहले इतनी ताकत किसी ने देखी नहीं होगी।’