पाक ने पुंछ में फिर तोड़ा सीजफायर, 2 जवान शहीद

0
45

जम्मू । जम्मू कश्मीर के पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पास अग्रिम इलाकों पर पाकिस्तान की ओर से की गई गोलीबारी में दो जवान शहीद हो गए हैं। फायरिंग की चपेट में आकर एक नागरिक की भी मौत हुई है। रक्षा प्रवक्ता ने संघर्ष विराम उल्लंघन पर बताया, ‘नियंत्रण रेखा के पास कृष्णाघाटी सेक्टर में पाकिस्तानी सेना ने सुबह 10 बजकर 35 मिनट से छोटे और स्वचालित हथियारों से बिना उकसावे के अंधाधुंध गोलीबारी शुरू की।’
उन्होंने बताया कि भारतीय सेना ने भी इसका माकूल जवाब दिया और गोलीबारी जारी है। प्रवक्ता ने बताया कि कृष्णाघाटी सेक्टर में पाकिस्तान की ओर से अकारण किए गए इस संघर्ष विराम उल्लंघन में दो जवान शहीद हुए हैं। प्रवक्ता ने बताया कि पाकिस्तान के बिना उकसावे के संघर्ष विराम उल्लंघन के दौरान हुई फायरिंग में एक कुली की भी मौत हो गई।
कृष्णाघाटी सेक्टर में शहीद हुए भारतीय सेना के जवानों के नाम टीके रेड्डी और मोहम्मद जहीर हैं। सेना की उत्तरी कमान ने ट्वीट करके इस बारे में जानकारी दी है। इस साल पाकिस्तान की ओर से संघर्ष विराम उल्लंघन के मामलों में तेजी आई है।
लगातार सीजफायर उल्लंघन
इससे पहले बीते 3 अक्टूबर को भी जम्मू-कश्मीर के भीमबेर गली सेक्टर में पाकिस्तान की तरफ से गोलीबारी हुई थी, जिसमें भारतीय सेना का एक जवान शहीद हो गया था। उसी दिन श्रीनगर एयरपोर्ट के पास भी आतंकियों ने बीएसएफ कैंप को निशाना बनाया था, जिसके मास्टरमांइड जैश-ए-मोहम्मद के कमांडर अबु खालिद को भारतीय जवानों ने 9 अक्टूबर को मार गिराया था।
2 अक्टूबर को तोड़ा था सीजफायर
दो अक्टूबर को पाकिस्तान ने सीजफायर का उल्लंघन करते हुए पुंछ सेक्टर में ही रिहायशी इलाकों को निशाना बनाया था। इसमें 3 नागरिकों की मौत, जबकि 5 अन्य लोग घायल हुए थे। भारतीय सेना भी पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दे रही है।
600 से ज्यादा बार सीजफायर उल्लंघन
हाल ही में आई गृह मंत्रालय की रिपोर्ट के मुताबिक साल 2017 में सितंबर महीने तक पाकिस्तान ने 600 से ज्यादा बार सीजफायर का उल्लंघन किया। यह आंकड़ा पिछले एक दशक में सबसे ज्यादा है।
गृह मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, 30 सितंबर तक 600 से ज्यादा बार सीजफायर उल्लंघन किया गया, जिसमें 16 जवान और 8 नागरिक मारे जा चुके हैं। यह सिलसिला अभी भी जारी है जिसका भारतीय सेना डटकर मुकाबला कर रही है। इससे पहले 2016 में 450 बार सीजफायर का उल्लंघन हुआ था।