नवकार महामंत्र आध्यात्मिक साधना में एक प्रयोगः आचार्य श्री महाश्रमण

0
93

मुंबई: जैन धर्म की अपनी एक अलग पहचान हैं उसमें भी तेरापंथ धर्म संघ की ख्याति अलग ही है। एक गुरु एक विधान पर चलने वाले इस धर्म संघ में युवा शक्ति बड़ी ही सक्रियता के साथ धर्म संघ की प्रभावनाओं से जुड़ता है। तेरापंथ धर्म संघ की सबसे ज्यादा सक्रिय कही जाने वाली 50 हजार युवाओं से जुड़ी संस्था आखिल भारतीय तेरापंथ युवक परिषद अपने सामाजिक कार्यों से विश्व पटल पर अपनी एक अलग पहचान बनाई है। चाहे साल के 365 दिन ब्लड डोनेशन कैम्प के आयोजन की बात हो याफिर बेहद कम दरों में ब्लड टेस्ट के लिए आचार्य तुलसी डायग्नोस्टिक सेंटर हो। हर क्षेत्र में अभातेयुप ने अलग पहचान बनाई हैं। इसी कड़ी में धर्म के क्षेत्र में एक नए वर्ल्ड रिकॉर्ड की ओर पहल अखिल बी भारतीय तेरापंथ युवक परिषद् के तत्वावधान में सवा करोड़ नवकार महामंत्र जप का आयोजन 24 अगस्त को आचार्य महाश्रमण जी के निर्देशानुसार संपूर्ण भारत में अभातेयुप के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी.सी भलावत, महामंत्री विमल कटारिया, राष्ट्रीय संयोजक तरीन मेहता, सह संयोजक जयेश मेहता, मुंबई संयोजक गौतम कोठारी, नवी मुंबई सह संयोजक प्रसन्न पामेचा, मुंबई सह संयोजक अमित रांका के नेतृत्व में होने जा रहा है। इस कार्यक्रम की अभी से लोकप्रियता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है की इस कार्यक्रम से जुडने के लिए कार्यकर्त्ता स्वयं अपने नाम इस योजना से जोड़ रहे है और जन मानस के बिच अभातेयुप के इस उपक्रम की जानकारी पहुंचा रहे है।
आचार्य श्री महाश्रमण जी का कहना है कि नवकार महामंत्र आध्यात्मिक साधना में एक प्रयोग है। इष्ट का स्मरण करना,उसमे तन्मय हो जाना, माला फेरना आदि जप की कोटि में आते हैं. श्वास के साथ इष्ट मन्त्र का अजपाजप करना एक महत्वपूर्ण साधना होती है। जैन शासन में नवकार महामंत्र का बहुत महत्त्व है। बच्चों को भी नवकार महामंत्र कंठस्थ करवाया जाता हैं। मानों जन्मघूंटी में नवकार महामंत्र जप के संस्कार दिए जाते हैं। वीतरागता पर आधारित यह एक विशुद्ध मंत्र है। नवकार महामंत्र वीतरागता पर आधारित मानतर है। आध्यतम की दृष्टी से यह एक अति विशिष्ट मन्त्र है। इसका जप कर्म विशुद्धि का एक महत्वपूर्ण साधन है।
अभातेयुप राष्ट्रीय अध्यक्ष बी सी भलावत एवं महामंत्री विमल कटारिया की माने तो पूज्य प्रवर फरमाते है की अरहता, सिद्धि, आचार, ज्ञान और साधना ये जीवन के पांच आयाम है। नमस्कार महामंत्र इनके विकास की सर्वोच्तम साधना है। यही वजह है की अभातेयुप ने संकल्प लिया है की सभी लोग इसे जुड़े जिसके लिए स्वत्व करोड़ नवकार महामंत्र जप कार्यक्रम का आयोजन एक साथ पुरे देश भर में करने जा रहे हैं। मुंबई संयोजक गौतम कोठारी और नवी मुंबई सह मंत्री प्रसन्न पामेचा की माने टन नमस्कार महामंत्र जैन परंपरा का विशिष्ट मंत्र है। इस मंगल महामंत्र द्वारा लाखों नहीं,करोड़ों व्यक्ति लाभांवित हुए हैं। यह मंगल भावनाओ से भरा मंत्र जगत में मांगल्य की वृद्धि करता है। मांगल्य की भावनाओं को बढ़ाता है। इस मंत्र के पीछे अनंत साधकों की साधना है अतः इसकी नियमित साधना से साधक के सभी मनोरथ पूर्ण होते है। यही वजह है की इसकी ख्याति पुरे विश्व में पहुंचे और मानव समाज का कल्याण हो जनजागृति को ध्यान में रखते हुए सवा करोड़ नवकार महामंत्र जाप को जन जन के बिच हम लेकर जा रहे हैं।